Monday, 28 March 2016

हरि के कार्तिक महिनमा बड़ा सुदिनमा हे हरि - छठ के गीत ८४

हरि  के कार्तिक महिनमा बड़ा सुदिनमा हे हरि - छठ के गीत ८४

हरि  के कार्तिक महिनमा बड़ा सुदिनमा हे हरि।
हरि  हे छठी मईयां अयलन पहुनमा हे हरि।
हरि हे गाँव के बाहर बसे एक डोम्बा हे हरि।
हरि रे हरे बाँस डलबा बिनायब हे हरि।
हरि हे डालाबा में केलबा चढ़ायाब हे हरि।
हरि हे औहे लय छठी मईया के चढायब हे हरि।

देह त्याग कर किधर गए? - कविता

देह त्याग कर किधर गए? - कविता  हम सबको छोड़ चले पिताजी न जाने कैसे किधर गए? माँ का जीवन तहस-नहस कर न जाने कैसे कहाँ गए? किसे ...