Monday, 28 March 2016

पुछथीन चन्द्रमा बहीनी सुरज भइया से बतीया - छठ के गीत ८७

पुछथीन चन्द्रमा बहीनी सुरज भइया से बतीया - छठ के गीत ८७

पुछथीन चन्द्रमा बहीनी सुरज भइया से बतीया।
कहँमा लागल हो भइया एहो अति देरिया।
बाटे भेटल गे बहीना बाझीन तीरियबा।
पुत्र देअइते गे बहीन लागल अति देरिया।


प्रारब्ध - कविता

प्रारब्ध - कविता प्रारब्ध हमारी तय करती है, नाते रिश्ते सारे| समय की गाडी छूक-छूक करती, चल पड़ती सब द्धारे| हम चाहे कितना इतर...