Monday, 28 March 2016

पुछथीन चन्द्रमा बहीनी सुरज भइया से बतीया - छठ के गीत ८७

पुछथीन चन्द्रमा बहीनी सुरज भइया से बतीया - छठ के गीत ८७

पुछथीन चन्द्रमा बहीनी सुरज भइया से बतीया।
कहँमा लागल हो भइया एहो अति देरिया।
बाटे भेटल गे बहीना बाझीन तीरियबा।
पुत्र देअइते गे बहीन लागल अति देरिया।


देह त्याग कर किधर गए? - कविता

देह त्याग कर किधर गए? - कविता  हम सबको छोड़ चले पिताजी न जाने कैसे किधर गए? माँ का जीवन तहस-नहस कर न जाने कैसे कहाँ गए? किसे ...