Thursday, 24 March 2016

केलबा मंगईली शहर से बालक दिहल जुठाय - छठ के गीत ८१

केलबा मंगईली शहर से  बालक दिहल जुठाय - छठ के गीत ८१

उजे  केलबा मंगईली शहर से  बालक दिहल जुठाय।
उजे तिरिया जे रोवले वियोग से अर्ग दिहलो न जाय ।
उजे छठी मइया बोलथीन गर्व से अर्ग हमें लेबो तोहार ।
उजे हमरो दिहल सुन्दर बालक अवगुण करब् माफ ।

उजे नारियल मंगईली शहर से बालक दिहल ...

वंशोदय (१८ अगस्त) - कविता

वंशोदय (१८ अगस्त) - कविता आज ही के दिन आकर, लाज रख दी वंश की| पलक पॉवड़े बिछे हुए थे, आशा की परिभाषा लेकर|| काले अंधेरे बादलों मे...